राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक बना जंग का मैदान जमकर हुआ हंगामा- पर्यटन मंत्री नाराज होकर लौटे

भरतपुरः जिले में शनिवार को राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल के समापन के दौरान जमकर हंगामा हुआ. स्थिति यह बन गई कि प्रतियोगिता का समापन करने पहुंचे पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह नाराज होकर वापिस लौट गए. स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा. जिसने नारेबाजी कर रहे है खिलाड़ियों को खदेड़ा. खिलाड़ियो ने जिला खेल अधिकारी और मैच के आयोजनकर्ताओं पर मिलीभगत का आरोप लगाया. मैच दुबारा कराने की मांग की. खिलाड़ियों का आरोप है कि खेल की भावना नहीं ,मेलजोल की भावना अपना रहे हैं. जिला खेल अधिकारी और कोच ? हंगामे और विरोध प्रदर्शन को देखते हुए मैच को शाम तक के लिए टाल दिया गया है. वहीं, मामले में पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने बयान देते हुए कहा है कि इस मैच को बिगाड़ने के लिए मैच के आयोजक जिला नोडल अधिकारी, जिला परिषद सीईओ, श्रीनिधि बीटी और जिला खेल अधिकारी सत्यप्रकाश लुहाच जिम्मेदार हैं. दोनों के खिलाफ कार्रवाई होगी. मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा है कि सरकार खेल का आयोजन खेल की भावना से करा रही है, लेकिन दोनों ने कासौट गांव के खिलाड़ियों के साथ किया, भेदभाव और दुर्व्यवहार किया. आइए जानते हैं कि क्या है पूरा मामला.भरतपुर के लोहागढ़ स्टेडियम में आज राजीव गांधी ग्रामीण ऑलम्पिक खेल प्रतियोगिता का समापन होना था, जिसके लिए पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह लोहागढ़ स्टेडियम पहुंचे थे. इस दौरान कबड्डी के मैच को लेकर सेवर और कासौट गांव की टीम आपस मे भिड़ गए. नारेबाजी व प्रदर्शन करने लगे. कासौट गांव के खिलाड़ियो ने मंत्री विश्वेन्द्र सिंह जिंदाबाद के नारे लगाते हुए मंत्री विश्वेन्द्र सिंह से दुबारा मैच कराने की मांग की. बताया कि उनके साथ भेदभाव हो रहा है. इस सबको देखकर मंत्री विश्वेन्द्र सिंह नाराज हो गए. वह प्रतियोगिता का समापन किये बिना ही वापिस लौट गए.