रीट परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक की सीबीआई जाँच को लेकर एबीवीपी का जोधपुर में प्रदर्शन

जोधपुर : आज जोधपुर जिला कलेक्टर के बाहर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने रीट परीक्षा में धांधली को लेकर के प्रदर्शन किया। एबीवीपी का कहना है कि रीट परीक्षा का प्रश्न पत्र परीक्षा से एक दिव पूर्व शिक्षा संकुल के स्टाँग रूम से उतरदायी अधिकारियों के सहयोग से परीक्षा पूर्व प्रश्न पत्र बाहर निकलना प्रशासनिक असफलता व गोपनीयता को प्रत्यक्ष रूप से भंग हुई है जैसे पूरे प्रदेश के लाखों युवाओं का भविष्य दांव पर लगा है जिसमें उनका कठिन परिश्रम परिवार वालों का आर्थिक सहयोग व उनके मानसिक स्तर को तोड़ने का अप्रत्यक्ष प्रयास है इस प्रकार के प्रश्न पत्रों का परीक्षा से पूर्व आने की क्रम मुख्य आरोपी भजनलाल के द्वारा दिया गया बयान के अनुसार रीट, एस.ई., जे.ई.एन., पटवार, आर.ए.एस., लाइब्रेरियन, ग्राम-विकास-अधिकारी आदि में भी हुआ है । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तरफ से राज्यपाल कलराज मिश्र को ज्ञापन में निम्नलिखित मुद्दों को सम्मिलित किया गया।

1. बोर्ड अध्यक्ष डी.पी. जारौली द्वारा राजस्थान बोर्ड की परीक्षाओं व रीट भर्ती परीक्षा प्रश्न पत्र के निर्माण, सम्पादन व विशेषज्ञों के संदर्भ में सम्पूर्ण जाँच करवाई जाए 

2. स्ट्रोंग रूम जिसमें प्रश्न पत्र रखे गए थे उनको सिल करनें व उनकी चाबी किन किन अधिकारियों के पास थी उनकी सम्पूर्ण जाँच करवाई जाए 

3. प्रश्न पत्र परीक्षा से पूर्व राजस्थान के किस किस जिलों मे पहुँचा उनकी जाँच करवाई जाए 

4. परीक्षा करवाने वाले नियुक्त अधिकारियों का प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष जिन जिन मंत्रियों से सम्बन्ध थे उनकी सीबीआई जाँच करवाई जाए

5. पेपर लीक को रोकने के लिए उचित मापदंड बनाकर क़ानून बनाया जाए

6. रीट परीक्षा की नई संभावित की तिथि घोषित कर युवाओं के मानसिक अवसाद को रोका जाए 

7. पूरे प्रदेश स्तर के युवाओं का भविष्य दांव लगाने के कारण मुख्यमंत्री एवं शिक्षामंत्री अपना इस्तीफ़ा सौंपे 

8. संलिप्त अधिकारियों व मंत्रियों की आय व सम्बंधित बैंक खातों की जाँच की जाए 

 छात्र नेता अविनाश खारा ने बताया है कि रीट प्रश्न पत्र लीक में सरकारी मंत्री उत्तरदायी अधिकारी की संलिप्तता है व अबतक करोड़ों रूपयों की ख़रीद फ़रोख़्त साबित हुई है अतः जाँच सक्षम स्तर तक सीबीआई से करवाकर युवाओं के मनोबल को प्रोत्साहित करे । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से जोधपुर जिला कलेक्टर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा गया।