पेट्रोल डीजल की कीमतों को लेकर डोटासरा का बड़ा बयान, भावों में कमी चुनावी झुनझुना

सीकर हाल ही में हुए उपचुनाव और केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी करने के मामले में विपक्ष से लगातार केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी को घेरे हुए है.


भाजपा और कांग्रेस के नेताओं के बीच में सियासी बयानों का दौर जारी है.


गोवर्धन पूजा के पर्व पर सीकर के नवलगढ़ रोड पर अपने निजी निवास पर आए प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हुई कमी को चुनावी झुनझुना बताया है. वहीं उपचुनाव में हुई भाजपा की हार को शिक्षा मंत्री ने जनता के आक्रोश का परिणाम बताया है. पीसीसी चीफ एवम शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने दीपावली एवं गोवर्धन पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रदेश में खुशहाली यूंही कायम रहे और हमेशा भाईचारे का माहौल बना रहे. काफी समय बाद देश को कोरोना महामारी से निजात मिली है. ऐसे में ईश्वर से प्रार्थना है कि भविष्य में भी ऐसे कोई महामारी नहीं आए.


जनता ने सिखाया सबक

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि हाल ही में जो उपचुनाव हुए हैं उससे भारतीय जनता पार्टी और केंद्र सरकार को झटका लगा है. चुनाव में मिली हार के बाद उन्हें जमीनी हकीकत का भी पता चला है, जो पहले सोचते थे कि मोदी के नाम पर वोट पड़ते हैं. उन्हें हिमाचल प्रदेश और राजस्थान की जनता ने यह दिखा दिया है कि किसानों पर अत्याचार करने वालों, दिन-ब-दिन महंगाई बढ़ाने वालों को जनता बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेगी.



पेट्रोल डीजल के भावों में कमी चुनावी झुनझुना

पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि उपचुनाव में मिली हार के बाद जनता को लुभाने के लिए और अपनी गलतियों का पश्चाताप करने के लिए केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी की है, लेकिन हकीकत यह है कि जितने दाम पिछले 6 महीनों में केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल के बढ़ाए हैं उसके अनुपात में यह राहत बहुत कम है. डोटासरा ने कहा कि उत्तर प्रदेश चुनाव आने वाले हैं ऐसे में केंद्र सरकार ने राहत के नाम पर चुनावी झुनझुना जनता को पकड़ाने की कोशिश की है लेकिन जनता अब सब जान चुकी है। पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि यदि सरकार को राहत देनी है तो वह पेट्रोल डीजल के भाव अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल के भाव के आधार पर करें तो जनता को ज्यादा राहत मिलेगी.