“विद्यार्थियों की जिज्ञासाओं के समाधान व सफलता की मुस्कान संस्था का पहला ध्येय” – निर्मल गहलोत

जयपुर।

उत्कर्ष के दो दिवसीय महा काउंसलिंग मेले के प्रथम दिन का तीन सत्रों में समापन रविवार की सायं 8 बजे समस्त विद्यार्थियों के करियर संबंधी जिज्ञासाओं के संतुष्टि भरे समाधान के साथ हुआ। इस दौरान उत्कर्ष क्लासेज के फाउंडर एंड सीईओ निर्मल गहलोत सहित प्रेरक वक्ता व काउंसलर डॉ. सतीश बत्रा तथा समसामयिकी विषय विशेषज्ञ कुमार गौरव द्वारा इस काउंसलिंग मेले में आए विद्यार्थियों के करियर को लेकर कोर्सेस व कोचिंग संस्था के चयन संबंधी उलझनों व जिज्ञासाओं का सटीक व प्रेरणादायी समाधान किया गया। प्रारम्भिक मंच संचालक प्रभात सैनी ने संस्था के 19 वर्षों के संघर्षमयी व सफलता प्राप्त सफर के संक्षिप्त विवरण के साथ काउंसलिंग मेले का शुभारंभ किया।   

शाखा प्रबंधक प्रभात सैनी ने बताया कि विद्यार्थी व समाज हित के लिए समर्पित उत्कर्ष क्लासेज के निदेशक निर्मल गहलोत द्वारा विद्यार्थियों के लिए आयोजित राज्य के संभवत: सबसे भव्य काउंसलिंग मेलों में से एक, इस मेले का आयोजन रखने का प्रमुख उद्देश्य विद्यार्थियों को करियर संबंधी पथ-प्रदर्शन प्रदान करते हुए जयपुर में आगामी केन्द्रीय व राज्य स्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हेतु शुरू होने वाले विभिन्न कोर्सेस की आवश्यक व सटीक जानकारियाँ मुहैया कराना है, ताकि उनमें कोर्स व कोचिंग संस्था का चयन करने में किसी तरह का भ्रम या उलझन न रहें। इस दौरान विभिन्न सोशल मीडिया माध्यम समेत करीब 1.50 करोड़ से अधिक ऑनलाइन व ऑफलाइन उत्कर्ष के विद्यार्थी परिवार का जिक्र करते हुए संस्था निदेशक ने बताया कि उत्कर्ष क्लासेज का प्राथमिक व सर्वोपरि उद्देश्य देश के हर कोने में बसे सभी वर्ग के विद्यार्थियों (स्कूली व प्रतियोगी परीक्षार्थी) को ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यमों में वाजिब शुल्क में गुणवत्तामूलक शिक्षा व कोचिंग प्रदान करना है। किसी विद्यार्थी के प्रश्न पर उन्होंने जाहिर किया कि नि:सन्देह ऑफलाइन शिक्षा कई मायनों में ऑनलाइन शिक्षा से श्रेष्ठ होती है।


“उच्च स्तरीय सपने सोने नहीं देते, रोने नहीं देते और खोने नहीं देते” – डॉ. सतीश बत्रा । 

 

शाखा प्रबंधक के साथ मंच का सह-संचालन करते हुए समसामयिकी गुरु कुमार गौरव ने प्रेरक वक्ता डॉ. सतीश बत्रा को मंच पर विद्यार्थियों को जीवन में सफलता पाने के लिए आवश्यक गुरुमंत्र देने हेतु आमंत्रित किया। डॉ. बत्रा ने सफलता हासिल करने के लिए विद्यार्थी जीवन में दैवीय और आसुरी प्रकृति में अंतर करते हुए सर्वप्रथम आत्मविश्वास, प्रोत्साहन एवं उचित व लक्ष्यभेदी रणनीतिक तैयारी पर जोर देते हुए सफलता प्राप्ति के 7 परीक्षित मंत्र जिनमें स्पष्ट ध्येय, निष्ठा, सार्थक कार्य योजना, सुसंगठित प्रयास, प्रभावी समय प्रबंधन, अभिव्यक्ति कौशल तथा सुसंगत सहयोग की महत्ता शामिल हैं, को उदाहरणों सहित विद्यार्थियों के समक्ष पेश किए और उन्हें अपने जीवन में सकारात्मक एवं लक्ष्य धारक होने का मूलमंत्र प्रदान किया। काउंसलिंग मेले के प्रत्येक सत्र में विद्यार्थियों के चेहरों पर जिज्ञासा समाधान की संतुष्टि एवं आत्मविश्वास के भाव देखे गए। महा काउंसलिंग मेले का अंतिम दिन व समापन सत्र सोमवार, 18 अक्टूबर प्रातः 10 से 12 बजे होगा।               


पूर्वी राजस्थान के विद्यार्थियों की माँग पर जयपुर में विभिन्न कोर्सेस के ऑफलाइन बैचेज किए जाएंगे प्रारंभ।  आज तथा कल  आगामी बैच के लिए एडमिशन होंगे।


काउंसलिंग सत्र के दौरान संस्था संस्थापक निर्मल गहलोत ने राजधानी में प्रतियोगी परीक्षाओं के आगामी ऑफलाइन बैचेज के शुल्क व प्रवेश संबंधी आवश्यक जानकारियों को सिलसिलेवार विद्यार्थियों के सामने रखा। इसी दौरान उन्होंने बताया कि जयपुर ऑफलाइन सेंटर में आईएएस, आरएएस, आरजेएस बैचेज की सफलता के बाद अन्य कोर्सेस शुरू करने के पीछे राज्य के पूर्वी जिलों में रहने वाले और उत्कर्ष एप से ऑनलाइन कोचिंग प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों की संस्था के अनुभवी व विषय विशेषज्ञों से साक्षात ऑफलाइन पढ़ने की इच्छा बलवती रही। उनकी इस इच्छा व सहूलियत को पूरा करते हुए संस्था द्वारा आगामी दिनों में स्कूल अध्यापक (फर्स्ट ग्रेड एवं सेकंड ग्रेड), ग्राम विकास अधिकारी, राज. पुलिस कॉन्स्टेबल, वनपाल व वनरक्षक, एसएससी, बैंक, एयरफोर्स (एक्स एंड व्हाई ग्रुप) की तैयारी हेतु ऑफलाइन बैचेज 19 अक्टूबर से 10 नवंबर के बीच विभिन्न तारीखों पर वाजिब शुल्क में शुरू किए जा रहे हैं, तथा हाईकोर्ट (एलडीसी) एसएससी (जीडी), रीट, केट, पीटीआई, रेल्वे, कम्प्यूटर अनुदेशक इत्यादि कोर्सेस हेतु रजिस्ट्रेशन प्रारम्भ किए जा चुके हैं।